[TOP] निस्वार्थ सेवा शायरी | Niswarth sewa quotes in Hindi

निस्वार्थ सेवा शायरी कि हमारी यह पोस्ट समर्पित है उन समाजसेवियों को जो निस्वार्थ सेवा करते हुए अपने जीवन को व्यतीत करते हैं। आज हर काम इंसान स्वार्थ और मजबूरी से करता है। लेकिन हर कोई इंसान स्वार्थी नहीं होता है कुछ लोग होते हैं जो समाज में बदलाव अपने दम पर लाते हैं। तो आइए निस्वार्थ सेवा शायरी कि हमारी यह पोस्ट उन सभी सच्चे समाजसेवियों को याद करते हुए पढ़ते हैं।

निस्वार्थ सेवा शायरी | Niswarth sewa quotes | समाज सेवा शायरी

सेवा का भाव रखते हो तो निस्वार्थ रखिए
प्यार का भाव रखते हो तो दिल से रखिए
जिन रिश्तों में रहता है स्वार्थ का भाव
उन रिश्तों से हमेशा दूरी रखिए
निस्वार्थ सेवा शायरी Hindi
निस्वार्थ सेवा शायरी Hindi
ना धन चाहिए ना दौलत चाहिए
ना ही गाड़ी ना मकान चाहिए
सेवा करने के लिए तो केवल
निस्वार्थ सेवा का भाव चाहिए

जनसेवा पर शायरी

उनकी सलामती की ख़ुदा से दुआ करते हैं
जो निस्वार्थ समाज की सेवा करते हैं
तन से करो चाहे धन से करो
करो सेवा तो निस्वार्थ मन से करो
niswarth sewa quotes
niswarth sewa quotes
सेवा करो तो करने का दिखावा मत करो
निस्वार्थ सेवा का भाव अगर मन में नहीं
तो सेवादार होने का दावा मत करो
अपनों को तो सब लगाते हैं
किसी गैर को गले लगा कर तो देखो
अपार सुख अनुभव होगा
किसी ग़रीब की निस्वार्थ भाव से सेवा करके तो देखो
दिखावे और स्वार्थ के लिए करते हो तो मत कीजिए
किसी की सेवा करनी है तो निस्वार्थ मन से कीजिए
Niswarth sewa quotes in hindi
Niswarth sewa quotes in hindi

निस्वार्थ सेवा शायरी

मां एक साक्षात रूप है निस्वार्थ भाव का
इस रूप में समर्पण है,
प्रेम है, त्याग है, सहनशीलता है, दया है
सचमुच वे इंसान पूजनीय है
जो किसी जरूरतमंद की ज़रूरत को अनदेखा नहीं करते
और किसी की मज़बूरी में अपना स्वार्थ देखा नहीं करते
भगवान भी उनको खुशियाँ और सुख देते हैं
जो असहाय और जरूरतमंद की सेवा
निस्वार्थ भाव से करते हैं
प्यार, मोहब्बत रिश्तों में निरंतर रखिए
अपने पराए में अंतर रखिए
मिलेगी मन को ख़ुशी बहुत
निस्वार्थ सेवा का ज़िंदगी में मंत्र रखिए
Niswarth sewa quotes in hindi
Niswarth sewa quotes in hindi
ज़िंदगी के सफ़र को खुशनुमा कीजिए
धन दौलत से नहीं खरीदी जा सकती खुशी
इसके लिए निस्वार्थ सेवा भाव का धन जमा कीजिए
इंसान हो तो इंसानियत के काम कीजिए
किसी की मज़बूरी को ना बदनाम कीजिए
सिर्फ़ दिखावे के लिए मत करना
कर सकते हो तो निस्वार्थ भाव से सेवा का दान कीजिए
जिनके अंदर इंसानियत की भावनाएँ छुपी होती है
निस्वार्थ सेवा वही करते हैं
वरना इंसान तो रिश्तो को तभी तक पहचानता है
जब तक रिश्ते में स्वार्थ छुपा होता है
स्वार्थ शायरी
स्वार्थ शायरी
जिस रिश्ते में निस्वार्थ भाव है
ना मन में कोई मनमुटाव है
उस रिश्ते का टूटना मुश्किल है
जिसमें ना कोई भेदभाव है

निस्वार्थ सेवा शायरी

निस्वार्थ किसी का हाथ थाम कर तो देखो
किसी बेगाने को अपना मान कर तो देखो
धरती पर ही हो जाएगा स्वर्ग का एहसास
ख़ुद के अंदर बसे भगवान को जान कर तो देखो
कौन कहता है ज़िंदगी में खुशहाली नहीं होती
मौसम में बहार और फ़िजाओं में हरियाली नहीं होती
जो करते हैं बुजुर्गों की निस्वार्थ  भाव से सेवा
उनकी किस्मत कभी खाली नहीं होती
निस्वार्थ सेवा शायरी
निस्वार्थ सेवा शायरी
तीर्थ और हज में जाने से क्या फायदा
अगर निस्वार्थ मन से मां बाप की सेवा ना की
निस्वार्थ सेवा और समर्पण का भाव चाहिए
इंसान का इंसानियत से लगाव चाहिए
बदलाव देखना चाहते हैं ज़माने में तो
सबसे पहले ख़ुद में बदलाव चाहिए
निस्वार्थ सेवा शायरी
निस्वार्थ सेवा शायरी
निस्वार्थ सेवा शायरी कि हमारी पोस्ट अगर आप यहां तक पढ़ चुके हैं और आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आई है तो हमें अपने बहुमूल्य विचार कमेंट के माध्यम से जरूर शेयर करें और हमारी इस समाज सेवा और निस्वार्थ सेवा की पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूलें।
धन्यवाद!
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments