जानिए बच्चे और माँ की सुरक्षा के लिए प्रेगनेंसी में कौन कौन से टेस्ट करवाना जरुरी हैं | Pregnancy me konse test hote hai

इस आर्टिकल में आप पढोगे प्रेगनेंसी में कौन कौन से टेस्ट करवाना जरुरी हैं! गर्भवती महिला की कौन कौन सी जांच होती है? प्रेगनेंसी टेस्ट करवाने के फायदे इत्यादि। ये टेस्ट एक गर्भवती महिला को जरूर करवा लेने किये ताकि खुद की और होने वाले बच्चे की बिमारियों से सुरक्षा की जा सके समय समय पर ये प्रेगनेंसी टेस्ट जरूर करवा लें।

 

प्रेगनेंसी में कौन कौन से टेस्ट करवाना जरुरी हैं | Pregnancy me konse test hote hai

Pregnancy me konse test hote hai
Pregnancy me konse test hote hai

 

गर्भावस्था ( ए.एन.सी. ) के दौरान किए जाने वाले मुख्य परीक्षण है:

  • बीपी की जांच
  • रक्त और शुगर का परीक्षण।
  • अजन्मे बच्चे की जांच।
  • बीमारी से बचाव के लिए टीकाकरण।
  • स्वस्थ रहने के लिए गोलियां देना।

प्रसव (Delivery) पूर्व जांच के लाभ

प्रसव पूर्व जांच या एएनसी टेस्ट कराने के कई फायदे हैं जैसे:
  • गर्भावस्था के दौरान जटिलताओं की अनुपस्थिति
  • बच्चे से संबंधित बीमारियों की रोकथाम।
गर्भावस्था के दौरान गर्भवती महिला की किसी डॉक्टर या नर्स से जांच करवाना महत्वपूर्ण है। यदि आप 4 बार से अधिक परीक्षण करवा सकते हैं, तो यह और भी अधिक है बेहतर बात है। यह ज्यादा फायदेमंद होगा।

ये भी पढ़ें : प्रेगनेंसी होने के शुरूआती लक्षण

यदि आपको संदेह है कि आप गर्भवती हैं या पता चलता है कि आप गर्भवती हैं, तो आपको तुरंत डॉक्टर से पहला चेकअप करवाना चाहिए।
जाँच जल्दी करने से गर्भवती महिला को कई समस्याओं से बचाया जा सकता है।
गर्भावस्था के दौरान जांच करने से कई समस्याओं से बचाव किया जा सकता है, जिन्हें हम नहीं पहचानते हैं जैसे
  • गर्भावस्था के दौरान उच्च रक्त
  • शुगर आदि जो मां और अजन्मे बच्चे के लिए खतरनाक हो सकती है।

गर्भावस्था के दौरान किन बातों का विशेष ध्यान रखें? 

  • गर्भावस्था के दौरान पति-पत्नी संबंध बना सकते हैं, लेकिन कुछ परिस्थितियों में इससे बचना चाहिए। उदाहरण के लिए, अगर गर्भावस्था के दौरान कभी कोई समस्या हुई है, या डॉक्टर ने ऐसा करने से मना कर दिया है।
  • गर्भवती महिला को करवट लेकर सोना चाहिए, इससे उसे आराम मिलेगा।
  • गर्भवती महिला को ज्यादा मेहनत नहीं करनी चाहिए, वह हल्की एक्सरसाइज कर सकती है।

गर्भावस्था के दौरान जरुरी है भोजन करना

एक गर्भवती महिला को अपने अजन्मे बच्चे के लिए सामान्य से अधिक भोजन करने की आवश्यकता होती है। यदि गर्भवती महिला बहुत कम खाती है या कम खाना पसंद करती है, तो माँ और बच्चे दोनों को समस्या हो सकती है।

एक गर्भवती महिला के आहार में निम्नलिखित शामिल होने चाहिए:

  • दालें और अनाज
  • दूध दही पनीर आगे क्या जैसे कि
  • फल, सब्जियां और विशेष रूप से हरी पत्तेदार सब्जियां
  • अंडे और मांस (यदि मांसाहारी हैं)
  • मेवे जैसे कि काजू, बादाम जैसे फल

खाने के समय गर्भवती महिलाओं को इन बातों का ध्यान रखना चाहिए

  • खाने से पहले और बाद में अपने हाथ अवश्य धोएं।
  • बाहर से खरीदा। कच्चा या पका हुआ मांस न खाएं।
  • दिन में एक बार से ज्यादा कॉफी या चाय न पिएं।
  • खाने से पहले सभी सब्जियों, फलों, सलाद आदि को अच्छी तरह धो लें।
  • प्रेग्नेंसी में हमेशा क्लीन पानी पिएं अगर आपको लगता है कि पानी साफ नहीं है तो इसे उबालकर इस्तेमाल करें।

प्रेग्नेंसी से संबधित किसी भी जानकारी या टेस्ट के लिए कमेंट करें।

धन्यवाद !